मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 8 नवंबर 2013

भूल गये आंसू के अक्षर, आहिस्ता-आहिस्ता लोग

भूल गये आंसू के अक्षर, आहिस्ता-आहिस्ता लोग।
होते गये फूल से पत्थर, आहिस्ता-आहिस्ता लोग।।
सामानों की भीड जुटाकर, गुम हैं खेल-खिलौनों में।
रिश्तों की गरमाहट खोकर, आहिस्ता-आहिस्ता लोग।।
मुश्तैदी से करते थे जो गुलशन की रखवाली कल।
बन बैठे खुश्बू के तस्कर, आहिस्ता-आहिस्ता लोग।।
चौपालें सूनी-सूनी हैं, मिलना जुलना बंद हुआ।
सिमट गये कमरों के अन्दर, आहिस्ता-आहिस्ता लोग।।
बाहर है मुस्कान लबों पर, भीतर-भीतर टूट गये।
बोझ तले ख्वाबों के दबकर, आहिस्ता-आहिस्ता लोग।।

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार को (09-11-2013) गंगे ! : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1424 "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार को (09-11-2013) गंगे ! : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1424 "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. आशीर्वाद देने के लिए धन्यवाद

      हटाएं