मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 25 जनवरी 2014

विजय का मूल्य ---पथिकअनजाना –465 वीं पोस्ट



     विजय का मूल्य ---पथिकअनजाना 465 वीं पोस्ट
       http://pathic64.blogspot.com
कहते सब एहसान मान खुदा का जो देता सब कुछ तुझे
क्या उचित हैं कि दे जरूरतें बदले में खुशामदें लेता खुदा
गर नही देता खुशामदहीन इंसान को जिन्दगी में कभी
तो खुदा करता क्या व्यापार जो खुशामद के आधार पर
इसलिये क्या खुदा होता उपलब्ध किराये से केन्द्रों पर
हर काम,विजय का मूल्य जहाँ लाईसेन्सधारी लेते हैं
वक्त बीत जाता सुकर्म आ हाथ थामते श्रेय ये पाते हैं
श्रमकणों से अर्जित आय खींच लेते पुण्यात्मा कहलाते
चलो विचारें क्षणभर क्यों हम हो हताश भटक जाते हैं
पथिक अनजाना

2 टिप्‍पणियां:

  1. मित्रवर!गणतन्त्र-दिवस की ह्रदय से लाखों वधाइयां !
    रचना अच्छी है !
    आप की यह रचना मेरे विचारों का पोषण करती है | ईश्वर की निष्काम साधना का अभाव युग विनाश का एक कारण है !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    गणतन्त्रदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    जय भारत।
    भारत माता की जय हो।

    उत्तर देंहटाएं