मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 15 जनवरी 2014

और वह खुदा हो गया ??????? --------पथिक अनजाना --४५४ वीं पोस्ट





      और वह  खुदा हो गया ???????  
 प्रकृति की सुन्दरता वरदहस्त महकती मौसमौं व‍
हवाऔ की बहाऱों खूबसूरत वादियो पर्वतों के नजारे
खिली फैली धूप ठण्डकें रात्रि के सितारों की मालायें
चन्द्रमा और सूर्य की फैलती जीवनदायनी परिक्रमायें
डालें जहाँ नजर सुख शांति जीवों में मानो छा जाती
हो प्रसन्न समस्त जीव मधुर रागों से मस्त हो जाते
आश्रय  में पलते निवासी मानवों की नजर लग गई
दो भागों में विभक्त इंसा इक रक्षक व दूजा भक्षक
जो मॉं गोद खिलाती हैं मौसम व वृक्ष जीवन देते हैं
अपमानित किया व इसने धरती को ही नरक बनाया
न सिर झुकाता शर्मिन्दगी से और वह खुदा हो गया
बख्शा बेशुमार न्यामतों से इंसा देव से दानव हो गया
पथिक अनजाना

2 टिप्‍पणियां: