मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 13 जनवरी 2014

अनमोल धरोहरें --पथिक अनजाना --४५२ वां पोस्ट




     अनमोल  धरोहरें
 जगत में अनमोल धरोहरें महत्वपूर्ण पाँच पाई
पहली धैर्यता दूजी विवेक  तीजी सजगता हैं
चौथी धरोहर निर्मोह रहें वअन्तिम न्यायिक हैं
जिस इंसान के पास सदैव यह विद्यमान रहें
नही उसका कभी कोई कहीं कुछ बिगाड सकता
वह सज्जन कभी दुष्कर्मों की ओर जा सकता
रहता सदैव सुरक्षित मानो अभयदान मिला उसे
नही शिकवा किसी को जहाँ में ऐसे इंसा से कभी
पाँचों की गोपनीयता को जो इंसा ले पास बांधें सदा
धोखों ठोकरों से बचेगा कभी वह हाथ मलेगा
तलवारें म्यान में नही शोभा देती अजमाई जातीहैं
पथिक अनजाना

1 टिप्पणी: