मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 28 जनवरी 2014

“ श्रीमान जी की तारीफ में --पथिकअनजाना -468 वीं पोस्ट”




       श्रीमान जी की तारीफ में --पथिकअनजाना -468 वीं पोस्ट
   http://pathic64.blogspot.com
गर चन्द लफ्जात श्रीमान की तारीफ में कर दें बयान आप
दुनिया में हर मौके पर इससे बेहत्तर तोहफा  क्या होगा
माना यहाँ बिना किसी प्रतिफल,आशा के कोई कुछ न देता
कुछ चाहने से पहले सोचें कितने ऐसे तोहफे आपने दिये हैं
न करें बयाँ हकीकत कही, वर्ना नजरों से सबकी गिर जावेंगें
ध्यान अगले वक्त के लिये करे कैसी कहानी आप दे जायेगे
परवाह नही कहे जमाना गर सुबह का भूला शाम घर आना
बात पते की दे रहा हू यारों मिले सकून गर तुम अजमाना
किसी महफिल में कभी याद करेगे,कह गया पथिकअनजाना
पथिक अनजाना

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (29-01-2014) को वोटों की दरकार, गरीबी वोट बैंक है: चर्चा मंच 1507 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं