मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 6 जनवरी 2014

दोराहे पर खडा --४४५ वां पोस्ट ---पथिक अनजाना




  दोराहे पर खडा 445 वीं पोस्ट
 ए बन्दे हर घडी हर पल सदा
क्यों दोराहे पर जा तू खडा होता हैं
राहे सुकर्म अपना जो भय व चिन्ता
से मुक्ति का बेशकीमती भंडार हैं
संभलना राहे दुनिया में देख यहाँ पर
फैले चिन्ता, भय के अटूट भंडार हैं
हैरां तू चलना तो चाहता राहे सुकर्म
पर कदम राहे दुनिया में कहीं जाते हैं
सज्जन को मंदिर में जाना पर कदम
क्यों वेश्या की नृत्यशाला पर लाते हैं
कशमकश भरी जिन्दगी तू कैसे जीता
रे मानव जो दोराहे पर खडा खोता हैं
क्यों नही कदम तेरे वश में जो तू
जीवनपर्यन्त ऐसे भटककर रोता हैं
अपने कदमों इरादों व नियत की तू
लगाम हाथ में रख क्यों न सोता हैं

पथिक अनजाना

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें