मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 24 जनवरी 2014

मृतकों की आत्माऔं का विश्व सम्मेलन -पथिक अनजाना ---४६४ वी पोस्ट



   मृतकों की आत्माऔं का विश्व सम्मेलन
  समाचार मृतको की आत्माऔ का विश्व सम्मेलन हुआ
  निर्विघ्न,निर्भिक वक्ता शांति से प्रशंसनीय संपन्न हुआ
  अन्य को एकजुट पा भारतीय आत्मायें शर्मसार हो गई
  ध्यानाकर्षण प्रस्ताव में भारत पर चुटकुले सुनाये गये
  लुटेरे आडम्बरी नेता नई पीढी में शिक्षा प्रसार कर रहे
  कामी अशांतह्रद्यी शांति, सचरित्रता के प्रचारक हो रहे
  लीड इंडिया केजरी बनी,लोड इंडिया भारत को नोच रही
  बदबूमयी हैवान नेतृत्व जन को सब्जबागों में डुबो रहा
  भारतीय मृतक संदेहास्पद श्राद्धअवकाश पर क्या बो रहे
  चर्चा ज्ञानियों का निरर्थक ज्ञान वेब सईटेंखुश हो रही हैं 
  पारिवारिक,समाजिक, देश सीमाये या मसले चर्चागत हैं
  विदेशों में भारतीय सिरमौर भारत भीतर चोर हो रहे हैं
  कविताकोष कविता विहिन कवि क्रान्ति की बाट जो रहे
  भारतीय प्रतिनिधि मण्डल चर्चा भारतीय सुन धन्य हुआ
    समाचार  मृत ----------
    पथिक अनजाना
 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें