मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 1 नवंबर 2013

मेरे ये पल अनुराग-भरे

कल सहसा यह संदेश मिला/सूने-से युग के बाद मुझे
कुछ रोकर, कुछ क्रोधित होकर/तुम कर लेती हो याद मुझे
गिरने की गति में मिलकर/गतिमय होकर गतिहीन हुआ
एकाकीपन से आया था/अब सूनेपन में लीन हुआ
यह ममता का वरदान सुमुखी/है अब केवल अपवाद मुझे
मैं तो अपने को भूल रहा/तुम कर लेती हो याद मुझे
पुलिकत सपनों का क्रय करने/मैं आया अपने प्राणों से
लेकर अपनी कोमलताओं को/मैं टकराया पाषाणों से
मिट-मिटकर मैंने देखा है/मिट जानेवाला प्यार यहां
सुकुमार भावना को अपनी/बन जाते देखा भार यहां
उत्तप्त मरुस्थल बना चुका/विस्मृति का विषम विषाद मुझे
किस आशा से छवि की प्रतिमा/तुम कर लेती हो याद मुझे
हंस-हंसकर कब से मसल रहा/हूं मैं अपने विश्वासों को
पागल बनकर मैं फेंक रहा/हूं कब से उलटे पांसों को
पशुता से तिल-तिल हार रहा/हूं मानवता का दांव अरे
निर्दय व्यंग्यों में बदल रहे/मेरे ये पल अनुराग-भरे
बन गया एक अस्तित्व अमिट/मिट जाने का अवसाद मुझे
फिर किस अभिलाषा से रूपसि/तुम कर लेती हो याद मुझे
यह अपना-अपना भाग्य, मिला/अभिशाप मुझे, वरदान तुम्हें
जग की लघुता का ज्ञान मुझे/अपनी गुरु ता का ज्ञान तुम्हें
जिस विधि ने था संयोग रचा/उसने ही रचा वियोग प्रिये
मुझको रोने का रोग मिला/तुमको हंसने का भोग प्रिये
सुख की तन्मयता तुम्हें मिली/पीड़ा का मिला प्रमाद मुझे
फिर एक कसक बनकर अब क्यों/तुम कर लेती हो याद मुझे

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति राग भरी अनुराग पगी।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (02-11-2013) "दीवाली के दीप जले" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1417) "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    दीपावली पर्वों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  3. शुभ दीपावली !!आशा है कि आप सपरिवार सकुशल होंगे |
    सुन्दर संस्मरण

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    आप सभी को --
    दीपावली की शुभकामनायें-

    जवाब देंहटाएं
  5. दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं
    नई पोस्ट हम-तुम अकेले

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रस्तुति………

    काश
    जला पाती एक दीप ऐसा
    जो सबका विवेक हो जाता रौशन
    और
    सार्थकता पा जाता दीपोत्सव

    दीपपर्व सभी के लिये मंगलमय हो ……

    जवाब देंहटाएं