मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 17 मार्च 2014

सोचना चले वो गये हैं –पथिकअनजाना-518 वीं पोस्ट





      हम  जिन्दगी के इस मुकाम पर गये है
      जहाँ लगता मानो कोई भटकन नही हैं बाकी
      मानो मेरे मयखाने का दर हम पा ही गये हैं
      हैरत मयखाने में हैं मौजूद मैं  व मेरी साकी
       तमाशबीन कितने कहाँ कौन हम भुला गये हैं
       रंग ही रंग चारों तरफ हवा में मानो हैं मौजूद
       रंगीले घुमडते बादलों पर व तले हमारा वजूद
       अजान नगाडे व घन्टियाँ सुनाई नही दे रही हैं
       शतरंजी मोहरे मेरे पीछे पीठ की तरफ हो गये
       हलचलें कही नही ख्याल बवाल भी सो गये हैं
       सांसें एहसास देती साकी की पर हम बेखबर हैं
       सुना दुनिया कहती जीवित पर हम खो गये हैं
       नही जगाना यारों मुझे सोचना चले वो गये हैं
       पथिक अनजाना
      

  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें