मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 13 मार्च 2014

दागियों का भविष्य मतदाताओं के हाथ

clip
निचली अदालतों द्वारा दोषी करार दिये जाने के बाद जनप्रतिनिधियों की सदस्यता तुरंत रद्द करने के पिछले साल के अपने फैसले की कड़ी में अब सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालतों को सांसदों एवं विधायकों पर चल रहे आपराधिक मुकदमों का निपटारा आरोप-पत्र दाखिल होने के साल भर के भीतर करने का निर्देश दिया है.
एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान दिया गया यह निर्देश विधि आयोग की रिपोर्ट पर आधारित है, जिसमें कहा गया है कि सदस्यता रद्द करने का सुप्रीम कोर्ट का निर्णय मुकदमों के लंबे समय तक लंबित रहने के कारण प्रभावी नहीं है. आयोग ने यह भी कहा है कि आरोप-पत्र दायर होने पर ही सदस्यता खत्म करने का विचार विधिसम्मत नहीं है. दरअसल, राजनीति का बड़े पैमाने पर अपराधीकरण भारतीय लोकतंत्र की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है. देश में शायद ही कोई पार्टी है, जिसके प्रतिनिधियों पर आपराधिक मामले नहीं चल रहे हैं. सांसदों और विधायकों द्वारा चुनाव आयोग के समक्ष जमा शपथ-पत्रों के पिछले साल के एक सर्वेक्षण के अनुसार 30 प्रतिशत से अधिक के विरुद्ध आपराधिक मुकदमे लंबित थे, जिनमें से आधे से अधिक गंभीर प्रकृति के अपराधों से संबद्ध थे. झारखंड विधानसभा में ऐसे विधायकों की संख्या देश में सबसे अधिक है, जहां करीब 74 प्रतिशत सदस्यों के विरुद्ध आपराधिक मामले लंबित हैं. बिहार विधानसभा में यह आंकड़ा 58, जबकि यूपी में 47 प्रतिशत है. मणिपुर ऐसा अकेला राज्य है, जहां किसी भी विधायक के खिलाफ आपराधिक मामला लंबित नहीं है. उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट के ही 2002 के एक निर्णय के बाद चुनाव में नामांकन के वक्त उम्मीदवार को उस पर दर्ज मुकदमों का ब्योरा देना जरूरी बना दिया गया है.  इससे पहले हमें जनप्रतिनिधियों की आपराधिक पृष्ठभूमि की सही जानकारी नहीं मिल पाती थी. अफसोस की बात है कि जनप्रतिनिधित्व कानून और चुनाव प्रक्रिया में सुधार को लेकर राजनीतिक दलों का रवैया नकारात्मक रहा है. इस कड़ी में जो कदम विधायिका और कार्यपालिका को उठाने थे, वह काम न्यायालय को करना पड़ रहा है. आसन्न चुनाव एक अवसर है, जब मतदाता अपने विवेक से आपराधिक छवि के उम्मीदवारों के राजनीतिक भविष्य का फैसला कर सकते हैं.
 

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (14-03-2014) को "रंगों की बरसात लिए होली आई है" (चर्चा अंक-1551) में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं