मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 18 मार्च 2014

जहां अन्यों के साथ ऐसा नहीं होता वहाँ भी गुस्सैल लोगों को लाल रंग की प्रतीति होती है लाल रंग नज़र आता है



जहां अन्यों के साथ ऐसा नहीं होता वहाँ भी गुस्सैल लोगों को लाल रंग 

की प्रतीति होती है लाल रंग नज़र आता है। 

जो लोग नीले रंग की बनस्पित लाल रंग  पसंद करते हैं वे अक्सर 

आक्रामक व्यक्तित्व के स्वामी होते हैं। 

विकासक्रम में भी लाल रंग का संबंध आक्रामक स्वभाव से जोड़ा जाता 

रहा है।अर्वाचीन काल से ही आवेश और आसन्न संकट से जोड़ा गया है 

लाल रंग का सबंध। साइंसदानों ने पता लगाया है जब गुस्सैल प्रवृत्ति 

के लोगों को ऐसी छवियाँ   प्रदर्शित की गईं जो न तो पूर्णतया लाल ही 

थीं और न नीली तब पता चला ऐसे ज्यादातर अवसरों पर उन्होंने ऐसी 

छवियों को नीले की बनस्पित लाल ही घोषित किया। 

कोई आश्चर्य नहीं प्राचीन गुफा वासी लाल रंग का सम्बन्ध आने वाले 

खतरे से जोड़के देखते थे। धमकी के रूप में  लिया जाता था हमारे 

पूर्वजों द्वारा लाल रंग।  

ऐसा विश्वास  किया जाता है यह अपने किस्म का ऐसा 

 पहला अध्ययन है जहां जुदा  प्रयोगों के तहत रंगों की पसंदगी का 

सम्बन्ध आदमी के स्वभाव से जुड़ता दिखलाई दिया   है। 

एक ऐसे ही प्रयोग के तहत लोगों से पूछा गया -उन्हें लाल और नीले में 

से कौन सा रंग पसन्द हैं। बाद इसके उनके स्वभाव (व्यक्तित्व )की 

पड़ताल की गई। 

पता चला लाल पसंदगी वाले लोग इण्टर -पर्सनली अपेक्षया ज्यादा 

आक्रामक थे। 

एक और प्रयोग के तहत प्रतिभागियों को कुछ ऐसी छवियाँ दिखलाई 

गईं जो विवर्ण  हो चुकी थीं उन्हें लाल भी कहा जा सकता था नीला भी 

लेकिन इनमें प्रभुत्व न लाल रंग का था न नीले का।

जिन्हें इनमें लाल रंग का प्रभुत्व दिखलाई दिया उनके व्यक्तित्व में २५ 

% ज्यादा आक्रामकता मिली बरक्स अन्यों के। 

इनके तेवर भी उग्र दिखे विचारधारा भी। इसीलिए जहां लाल नहीं भी 

था वहाँ इन्हें लाल ही लाल छाया हुआ दिखा। 

परीक्षणों में शामिल लोगों के समक्ष कुछ काल्पनिक स्थितियां बुनी 

गईं 

पता चला इन हालातों में भी लाल के दीवाने दूसरों को क्षति पहुंचाने 

की 

जुगत में थे बरक्स नीले रंग को अपनी पहली पसंद बतलाने वालों के। 

ज़ाहिर है रंगों का अपना मनोविज्ञान है सौंदर्य बोध से हटके। यही 

सन्देश रहा इस रोचक अध्ययन का।  



It’s official: Angry people actually ‘see red’

Angry people really do "see red" where others don't, scientists have shown. And a preference for red over blue may even be an indicator of a more hostile personality. In a study examining humankind's ancient association of the colour red with anger, aggression and danger, researchers found that when shown images that were neither fully red nor fully blue, people with hostile personalities were much more likely to see red. 


Scientists said that the connection may be linked to our evolution from ancestral hunter-gatherer times to link red with danger and threats. 

The research is believed to be the first to look at personality, hostility and the colour red, and involved a number of separate experiments. 

In the first, researchers from North Dakota State University asked a group of people which colour they preferred, red or blue. Participants then completed personality tests. Results showed that those who opted for red tended to be inter-personally more hostile. 

During a second test, participants were presented with images which were faded so they were red or blue to some extent. There was no absolutely dominant colour, and they could be perceived as either. Those who predominantly saw red scored 25% higher on indicators of hostility in the personality test section of the study. 

"Hostile people have hostile thoughts; hostile thoughts are implicitly associated with the colour red, and therefore hostile people are biased to see this colour more frequently," the researchers said, reporting their findings in the Journal of Personality. 

The test participants were presented with imaginary scenarios where they could take various forms of action. Red-preferring people were more likely to indicate that they would harm another person in the scenarios than those who preferred blue. 

"A core take-home message from this research is that colour can convey psychological meaning and, therefore, is not merely a matter of aesthetics," the researchers said.



  1. Times of India ‎- 1 day ago
    Angry people really do "see red" where others don't, scientists have shown. And a preference for red over blue may even be an indicator of a ...

2 टिप्‍पणियां:

  1. bahut achhi jankari ....mujhe bhi laal rang hi pasand hai , lekin main akramak nahi hun jab tak uksaaya na jaye ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (19-03-2014) को समाचार आरोग्य, करे यह चर्चा रविकर : चर्चा मंच 1556 पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं