मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 14 मई 2014

शांति की कब्र पर ये शांत—पथिक अनजाना -601वी.पोस्ट







जीवन में गैरों से जंग समयाधीन होती हैं
अपनों से जंग ही क्यों ताउम्र चला करती हैं
मुझे गैरों से जंग करके ज्यादा दुख न हुआ
दुखी तो अपनों से चलती जंग  ने कर दिया
जंग उनके साथ जो सदैव जीवन में साथ हो
वजह जंग की बेवकूफी भरे कार्य क्यों होते हैं
माना इक राहे बेवकूफी दूजा सब्र करता नही
होते मैदाने जंग में तालियाँ तमाशबीन बजाते
विदूषक बनाने वाले यहाँ खुद विदूषक हो जाते
अपनी शांति की कब्र पर ये शांत कैसे हो जाते
ताउम्र इसमें गवाँते शांति नही आमीन होती हैं
अपनों से जंग नही कभी  समयाधीन होती हैं
पथिक   अनजाना


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें