मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


फ़ॉलोअर

बुधवार, 21 मई 2014

रंग न तुम पर दुनियायी रंगों का—पथिक अनजाना---608 वीं




हर क्षण दुनिया के रंग व नजारे मैं बदलते यहाँ देखता हू
रहता हूं मैं भीड में यहाँ दुनिया की फिर भी अकेला हूं मैं
न पति न बेटा न कोई रिश्ता ही इस दुनिया में मेरे यारों
यहाँ की गैरत देख कर हैरत होती क्यों इतना अकेला हूं मैं
मौजूद अनेकों सगे –सबंधी ,प्रशंसक व ब्लाग के यार-चार हैं
अनजान दुनिया के पथिक तुम अनजान दुनिया में आये हो
रंग न तुम पर दुनियायी रंगों का चढे बदसूरत हो जावोगे
उठती जमी पर भंवरी चक्रों में फंसा जमाना कुछ न पावोगे
देखो रंग गर फिसले तो तुम पथिक अनजाना न कहलावोगे
न फंसों यहाँ तूफानों में जिन्दगी का सूरज डलते देखता हूं
पथिक अनजाना



1 टिप्पणी: