मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 17 मई 2014

सिफर,सफर अजर-अमर –पथिकअनजाना---604 वीं पोस्ट








किसी इंसान की जिन्दगी में जरूरी स्थान १२०वर्गफुट
इंसा दफन हो ऐतिहासिक पाते जमी करीब १२ वर्गफुट
इंसान अधिकतर रखता हैं आशा जीने की १२० वर्ष तक
इंसा के ख्यालात घूमते आगे न जाने कितने शून्यों तक
पृथ्वी  सृष्टि अणु से शुरू  हुई जिन्दगी अणु बनने तक
सिर्फ सिफर ही सिफर थे जो घटते बढते ही रह गये यहाँ
आसपास सिफर दर्ज करने हेतू जीवन सफर बीत जाता हैं
आती हंसी पथिक अनजाना को इंसानी स्वभाव क्या बना
सिफर,सफर अजर-अमर तो क्या ईकाई अंक होता हैं फना
अणु से ब्रम्हाण्ड को मुठ्ठी मे छिपाने की दौड में होते तन्हा

पथिक  अनजाना

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें