मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 15 अक्तूबर 2013

योग आसन और सामान्य कसरत में क्या फर्क है ?

योग आसन और सामान्य कसरत में क्या फर्क है ?


कसरत का सारा दारोमदार सारा फॉकस ,सारी तवज्जो काया को लाभ पहुंचाना है।कसरत के बिना पेशीय अपव्यय होता है ,अस्थियाँ 

कमज़ोर पड़ती हैं ,ऑक्सीजन ज़ज्बी की क्षमता घटने लगती है। अचनाक कोई शारीरिक क्षमता का काम आ पड़े देर तक काम करना 

पड़ जाए तो पहाड़ सा लगने लगे। लेकिन कसरत पेशी से काम लेती है। 

Exercises cause catabolism ,or breakdown of cells .

Catabolism :(katabolism )is the production of energy through the conversion of complex molecules into simpler 

ones usually with the release oh heat .Workouts that lead to a reduction in mass are known as catabolic .

कैटाबालिज्म एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें जटिल अणु  टूट कर सरल रूप लेते हैं। अक्सर ताप ऊर्जा (ऊष्मा )मुक्त होती है इस प्रक्रिया 

में। कोशिकाओं की भी टूट फूट होती है। 

योगासन महत्वपूर्ण अंगों पर अपना असर दिखाते हैं। स्नायु और ग्रंथियों पर काम करते हैं। स्नायुविक तंत्र (nervous system 

)विद्युत् रासायनिक बदलाव पैदा करते हैं। रक्त में  ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाते  हैं। कायिक तापमान में गिरावट लाते हैं। तथा 

अपचयन की दरों(metabolic rates ) को कमतर करते हैं।

http://www.bkmurlis.com/wp-content/uploads/2013/10/Hindi-Full-Murli-14.10.2013.pdf

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (16-10-2013) "ईदुलजुहा बहुत बहुत शुभकामनाएँ" (चर्चा मंचःअंक-1400) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं