मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 19 अक्तूबर 2013

गजल : देश की तस्वीर धुंधली हो गई

गजल :  देश की तस्वीर धुंधली हो गई 

                                 -डॉ. वागीश मेहता नन्द लाल ,

                                  भाव सहचर्य(सहचर )वीरेंद्र शर्मा (वीरुभाई )


          देश की तस्वीर धुंधली हो गई ,


          वोट का चेहरा खिला ,उजला गया। 


                       (१) 

         मंद बुद्धि मेमना हुंकार ऐसी मारता ,

         हौसला भी 'सिंह 'का ,गश खा गया। 

                      (२) 

         'मौन ' जब मोहने  लगा वक्ताओं को ,

         गूंगा खुद दर्पण हुआ हरषा गया। 

                      (३ )
          
          दाल चावल मुफ्त में मिलने लगे ,

          दोस्तों मौसम चुनावी आ गया। 

                      (४ )
           देखते ही देखते बम धर गया ,
            
           सेकुलर कम्युनल मुद्दा छा गया। 

                     (5)

           मौन मोहन जब से वक्ता हो गया ,

           गूंगा खुद दर्पण हुआ इतरा गया। 

          प्रस्तुति :वीरुभाई 

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (20-10-2013)
    शेष : चर्चा मंचःअंक-1404 में "मयंक का कोना"
    पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (20-10-2013)
    शेष : चर्चा मंचःअंक-1404 में "मयंक का कोना"
    पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं