मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 15 अक्तूबर 2013

दोहावली



ठहर न इस ठांव मनुवा, जाना और ठांव ।
मिटे जहां ठाठ मनुवा, मिलती शीतल छांव ।।

तुम होगे हंसा गगन, काया होगी ठाट ।
तुम तो हो पथिक मनुवा, जीवन तेरा बाट ।

कर्मो की मुद्रा यहां, पाप पुण्य का  हाट ।।
क्या ले जायेगा साथ, झोली भर ले छाट ।।

ले जाते हैं उपहार, कुछ ना कुछ उस धाम ।
कर्मों की ही पोटली, आते हैं जहां काम ।।

दुख की निशा में छुपता, सुख रवि का प्रकाश ।
कष्टों की बेला काट, लिये भोर की आस ।।

प्राणि प्राणि में है प्राण, तुम सा ही है मान ।
अपने ही सुख दुख भांति, सबका सुख दुख जान ।।
............................................
-रमेशकुमार सिंह चैहान


9 टिप्‍पणियां:

  1. मन को "शीतल "करती प्रस्तुति। सुन्दर भाव और अर्थ। वर्तनी ठीक कर लें असर बढ़ जाएगा दोहावली का। आभार।

    (कर्मों ,प्राणि ,शीतल ,हैं )

    कर्मो (कर्मों )की ही पोटली, आते है (हैं )जहां काम ।।


    मिटे जहां ठाठ मनुवा, जहां हैं शितल (शीतल )छांव ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय शर्माजी आपके सार्थक सुझाव पर अमल करते हुये आपको धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ । सादर


      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (16-10-2013) "ईदुलजुहा बहुत बहुत शुभकामनाएँ" (चर्चा मंचःअंक-1400) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. आभार भाई आपकी इस सहृदयता का ब्लॉग जगत में कई भाई हमसे रुसवा हैं इसी लाने(कारण )।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा शर्माजी ने .....देखिये... वास्तव में १३-११ मात्रा के अतिरिक्त दोहे के ..दुकल, चौकल आदि नियम भी होते हैं ..जिन्हें जानना अत्यावश्यक नहीं है ....परन्तु यदि गेयता का ध्यान रखा जाय तो ये स्वतः ही आजाते हैं ...कुछ उदाहरण देखिये ..इन्हीं दोहों में ...सिर्फ शब्दों के स्थान व स्थिति परिवर्तन से प्रवाह आजाता है....

    ठहर न इस ठांव मनुवा, जाना दूसरे ठांव (=१२ मात्राएँ) । = मनुवा ठहर न अब यहाँ, चलो दूसरे ठांव |
    मिटे जहां ठाठ मनुवा, मिलते शीतल छांव ।। = ठाठ मिटे मनुवा जहाँ, मिलती शीतल छाँव |

    तुम तो हो पथिक मनुवा, = तुम तो हो मनुवा पथिक ...

    क्या ले जायेगा साथ = ले जाएगा साथ क्या.....

    अपने ही सुख दुख भांति = सुख दुःख अपने भाँति ही,

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपने भाव के अनुरूप आपके सलाह पर संशोधन कर रहा हू। ध्यान दिलाने के सादर साधुवाद । सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर दोहावली, मजा आ गया।

    उत्तर देंहटाएं