मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 27 अक्तूबर 2013

कोई सीखे तो पहले खाक होना

जरूरी है बहुत बेबाक होना।
मगर अच्छा नहीं चालाक होना।।
कोई पूछे हमारी जिन्दगी से।
किसे कहते हैं दामन चाक होना।।
सभी को ये हुनर आता कहां है।
किसी के जिस्म की पोशाक होना।।
तेरी आंखो से बाहर झांकता है।
इरादों का तेरे नापाक होना।।
भंवर की जद में बेबस हो रहा हूं।
क्हां काम आ रहा तैराक होना।।
बुलन्दी पर खडा होगा यकीनन।
कोई सीखे तो पहले खाक होना।।

                     रमेश पाण्डेय

4 टिप्‍पणियां:

  1. रमेश जी एक अच्छी कविता के लिए आपकों ...... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (28-10-2013)
    संतान के लिए गुज़ारिश : चर्चामंच 1412 में "मयंक का कोना"
    पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. श्री शास्त्री जी चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत-बहुत आभार।

      हटाएं