मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 27 अक्तूबर 2013

लोकतंत्र करे अपील (छंदमाला)


लोकतंत्र करे अपील (छंदमाला)
दोहा
बज रहे बड़े जोर से, चुनावी शंखनाद ।
अब साम दाम भेद से, चल रहा शाह मात ।।

सोरठा
लोकतंत्र पर्व एक, उत्सव मनाओं सब मिल ।
बढ़े देश का मान, कुछ ऐसा करें हम मिल ।।

ललित
वोट का चोट करें गंभीर, अपनी शक्ति दिखाओं ।
जो करता हो देश हित काज, उनको तुम जीताओं ।।

गीतिका
देश के सब वोटर सुनो, आ रहा चुनाव अभी ।
तुम करना जरूर मतदान, लोकतंत्र बचे तभी ।।
राजनेता भ्रष्‍ट हों जो, बंद मुख उनका करें ।
लालच चाहे जितना दें, लोभ में न कभी पड़े ।।

कुण्डलीय
हे पढ़े लिखे भद्रजन, लोकतंत्र करें अपील ।
तुम देश के रीढ़ बनो, सभी रहो हिलमील ।।
सभी रहो हिलमील, देश हित एक काम करो ।
निज काम छोड़ अभी, अपना मतदाना करो ।।
कह ‘रमेश‘ समझाय, देशहित सबसे ऊपर ।
चयन करो भले लोग, पढ़े लिखे भद्रजन हे ।।

...................................
-रमेशकुमार सिंह चौहान

3 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति।
    साझा करने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक अपील चुनाव आयोग जैसी। वोट धर्म निभाइये। अपनी शक्ति साधिये ,धारण कीजिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (28-10-2013)
    संतान के लिए गुज़ारिश : चर्चामंच 1412 में "मयंक का कोना"
    पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं