मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 25 अक्तूबर 2013

गहो रे मन श्याम चरण शरणाई, अंत समय कोई काम न अइहैं ,मात पिता सुत भाई।

Jagadguru Kripaluji Yog (JKYog )Bhajans and 

Kirtans for Swami Mukundananda's Discourses 

-2013


गहो रे मन श्याम चरण शरणाई

O mind ! Take shelter of  Shyamsundar's lotus feet .

अंत समय कोई काम न अइहैं ,मात पिता सुत भाई।

At the time of death ,none of your worldly relatives like mother 

,father ,brother and son ,will come to your  help .


काम ,क्रोध अरु लोभ ,मोह ,मद इन सों कछु न बसाई।

Lust ,anger ,greed ,attachment and pride -do not harbor any of these .

यह जग मृग तृष्णा सम दीखत ,सुख लवलेश न पाई।

This world is like a mirage .You can not find even a drop of happiness here .

धन यौवन तन छन भंगुर सब ,ज्यों कपूर उडि  जाई।

Wealth ,youth and bodily beauty are transient ,disappearing into 

thin air like camphor .

बहुरि 'कृपालु ' न नर तन पाइय ,बिगरी लेहु बनाई।

Says Shree 'Kripalu ' ,"O'  mind ! You will not receive this human 

body again and again ;so surrender to 

Shree Krishna immediately and mend your eternally ruined fortune ."

                                                 (2)   

               

श्यामसुन्दर हमारो यार ,लखन को जिया ललके।

Shree Krishna is my Beloved .I am most eager to have a glimpse of him .

जिनके सिर मोर मुकुट राजै ,गोरोचन तिलक भाल भ्राजै 

He wears a peacock feather crown on his head .He has a sandalwood and saffron tilak on his forehead.

लटकारी ,घनी ,घुंघरार ,लखन को जिया ललके।

I am eager to have a glimpse of Shree Krishna ,who has thick and curly hair .

जिनके कानन कुंडल हलकै , नैनन बिच प्रेम -सुधा छलकै ,

He wears shining earrings .His eyes are overflowing with the nectar of divine love .

नाक बेसर सुघर ,छबिदार ,लखन को जिया ललके।


I am eager to have glimpse of Shree Krishna ,who wears a beautiful ,enchanting nose pearl .


जिनकी चंचल चितवन बांकी ,मुरि मुरी मृदु मुसकनि की झांकी ,

He has a slanting and lovingly restless glance .His mild and gentle smile is very attractive .


वनमाला गले रिझवार ,लखन को जिया ललके।

I am eager to have a glance of Shree Krishna ,who wears a garland of many beautiful flowers around his

neck .

जिनके उर पीताम्बर फहरै ,कटि किंकिनी की धुनि चित हरै।


He wears silken yellow garments that flutter in the wind .He wears a beautiful waistband that entices the heart

with its sound .

भल कछनी कछी अरुणार ,लखन को जिया ललके।

I  am eager to have a glimpse of Shree Krishna who wears a red cloth around his waist .

जिनके चरनन नूपुर बाजै ,झुकि झूमि गवनि गति गज लाजै।


The anklets on his lotus feet create a captivating sound .His graceful gait puts the elegant elephants to shame .

तान मुरली 'कृपालु 'बलिहार ,लखन को जिया ललके।


Says Shree 'Kripalu',I am most eager to have a glimpse of Shree Krishna ,whose magical flute sound fills the

heart with ecstasy .I am willing to sacrifice my everything upon it .

http://www.youtube.com/watch?v=UJM4px0rUsg


http://www.youtube.com/results?search_query=jkyog+kirtan+swami+mukundanand&oq=jkyog&gs_l=youtube.1.1.35i39l2j0.10607.12313.0.18067.5.5.0.0.0.0.132.415.4j1.5.0...0.0...1ac.1.11.youtube.3pfHgIKqQsM


  1. Tu Hi Tu Hi Mera Nanda Nandan - Kirtan by Swami Mukundananda

    Melodious and joyful kirtan rendered by Swami Mukundananda.





(To be continued)

3 टिप्‍पणियां:

  1. हिन्दी-आंगल का बेजोड गंगाजमुनी संगम ! इस समय धर्म चर्चा का प्रयास मरुभूमि में कमल उगाने के सामान है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहो रे मन शाम चरण शरणाई, बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (26-10-2013)
    "ख़ुद अपना आकाश रचो तुम" : चर्चामंच : चर्चा अंक -1410 में "मयंक का कोना"
    पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं