मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 19 अक्तूबर 2013

श्रुति मन्त्र सरीखी पावन जिनकी वाणी है , भारत का जन मन उन पर बलिहारी है।



श्रुति मन्त्र सरीखी पावन जिनकी वाणी है ,

भारत का जन मन उन पर बलिहारी है। 


जगद्गुरु कृपालुजी महाराज का आज ९२ वां जन्मदिन है इस अवसर पर उन्हें समर्पित भाव :


श्रुति मन्त्र सरीखी  जिनकी पावनवाणी है ,

भारत का जन मन उन पर सदा  बलिहारी है। 

जगद्गुरु महान कृपालु प्रेमरसावतारी  हैं,

जननी उनकी सकल पूज्य सन्नारी है। 

श्रद्धावनत शिष्य मण्डली सुरभित सी फुलवारी है ,

दृष्टि सहजा ,सुखदा वरदा और सुमंगल कारी है।

शत शत नमन कहे  ,हर सेवक श्रीपदाम्बुजानुचारी है ,

सर्वशाश्त्र पारंगत ऐसे संत की ,शोभा न्यारी है ,

जन्म दिवस हों ,पार -शतायु ,कामना हमारी है ,

भारत भू ऐसे ऋषियों की अद्भुत सुन्दर क्यारी है। 

http://www.youtube.com/results?search_query=jkyog.org&oq=jkyog.org&gs_l=youtube.3..0.3629.9659.0.10977.9.6.0.3.3.0.90.447.6.6.0...0.0...1ac.1.11.youtube.eMI_Gxx-ey8

Why is Sadhana (Devotion) important in the modern age? [Interview with Swami Mukundananda]

3 टिप्‍पणियां:

  1. जगतगुरू कृपालु महराज की जय, जन्मदिन की मंगल शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (20-10-2013)
    शेष : चर्चा मंचःअंक-1404 में "मयंक का कोना"
    पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. जन्मदिन पर शुभकामनाएं सुंदर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं