मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 9 अक्तूबर 2013

श्याम स्मृति-......मानव मन, धर्म व समाज ...डा श्याम गुप्त ....

                        श्याम  स्मृति-......मानव मन, धर्म समाज ...
                    जिस प्रकार मानव मन विभिन्न मानसिक ग्रंथियों का पुंज है, समाज भी व्यक्तियों का संगठन है|  मन बड़ा ही अस्थिर है, चलायमान है, वायवीय तत्व है | इस पर नियमन आवश्यक है |
                   कानून मनुष्य ने बनाए हैं, उनमें छिद्र अवश्यम्भावी  हैं, धर्म शाश्वत है, वही मन को स्थिरता दे सकता हैधर्महीन मानव, धर्महीन समाज, धर्महीन देश ...स्थिरता तो क्या एक क्षण खडा भी नहीं रह सकता .... अपने पैरों परआज विश्व की अस्थिरता का कारण है धर्महीन समाज |    धर्म का अर्थ सम्प्रदाय नहीं है | आज के चर्चित "रिलीज़न" वास्तव में सम्प्रदाय ही हैं | धर्म और रिलीज़न दो भिन्न संस्थाएं हैंआज चर्चित भिन्न-भिन्न  मत-मतान्तर, धार्मिक नियम ..धर्म नहीं हैं | धर्म तो एक ही है और वह शाश्वत है | धर्म का अर्थ है ...कर्तव्य का पालन,,,,,| और धर्म का केवल एक ही सिद्धांत है..."कभी दूसरों को दुःख मत दो |"......
परहित सरिस धर्म नहीं भाई
परपीड़ा सम नहीं अधमाई |

" सर्वें सुखिना सन्तु 
सर्वे सन्तु निरामया |
सर्वे पश्यन्तु भद्राणि,
मा कश्चिद दुखभाग्भवेत ||"


11 टिप्‍पणियां:

  1. धर्म का अर्थ है ...कर्तव्य का पालन,,,,,| और धर्म का केवल एक ही सिद्धांत है..."कभी दूसरों को दुःख मत दो |".
    हर कोई कर्तब्यों का पालन करेगा तो किसी को दुःख होने का प्रश्न ही नहीं उठता - उत्तम अभिव्यक्ति |
    लेटेस्ट पोस्ट नव दुर्गा
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद काली जी.......सत्य कहा.....

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (10-10-2013) "दोस्ती" (चर्चा मंचःअंक-1394) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (10-10-2013) "दोस्ती" (चर्चा मंचःअंक-1394) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (10-10-2013) "दोस्ती" (चर्चा मंचःअंक-1394) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. जो शाश्वत भाव से रहा आया है आत्मा का जो मूल स्वभाव है वही सनातन धर्म है। बोले तो शान्ति ,आनंद ,प्रेम ,(दिव्य प्रेम).,डिवोशन। बढ़िया प्रस्तुति संक्षिप्त और सारवान।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा शर्माजी....आत्मा का जो मूल स्वभाव है वही सनातन धर्म है।...क्या बात है....

      हटाएं
  6. जो शाश्वत सत्य है वही तो धर्म है और धर्म क्या इस पर तो दुनियां में कहीं पर भी विवाद नहीं होना चाहिए लेकिन जब धर्म और सम्प्रदाय को एक ही मानने के कारण ही विवाद पैदा होता है ! जो नासमझी के कारण होता है !

    उत्तम प्रस्तुति !!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद पूरण जी....सत्य बचन महाराज....

      हटाएं
  7. धन्यवाद पूरण जी....शास्त्रीजी....वीरेन्द्र जी...कालीपद जी ........आभार ....

    उत्तर देंहटाएं