मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 13 अक्तूबर 2013

अवध जहां जन्मे रघुराई, घर-घर गूंज उठी शहनाई।
ऋषियों की रक्षा कर प्रभु ने तारी अहिल्या माई,
सीता के संग ब्याह रचाकर अवध आये रघुराई।
वन-वन भटक किये जन रक्षा, मेटे सकल बुराई।
रावन की लंका को जीत्यो, दुंदुभि बजत बधाई।
मानवता की रक्षा कीन्हो, जय-जय श्री रघुराई।
विजयदशमी की ढेर सारी शुभकामनायें। यह पर्व सभी के जीवन में सुख, समृद्धि और शांति लेकर आये।

2 टिप्‍पणियां:

  1. अति सुन्दर भाव की सशक्त रचना गीतात्मक प्रस्तुति भाव की राग सदृश्य।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्साहवर्धन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद वीरेन्द्र जी।

    उत्तर देंहटाएं