मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 18 अक्तूबर 2013

आई... शरद की पुरनम रात

आई... शरद की पुरनम रात कन्हाई।
पूर्ण कला से चन्द्रदेव ने तृप्त किये तिहुं लोक,
जड, चेतन सब मंत्रमुग्ध हो करते विविध विनोद।
एक ओर चन्द्रदेव का जादू, दूजो मुरली की मनमोहक तान,
छेवी, देव सभी एकटक हो, देखें गोपिन का अलौकिक गान।
शिव भी भूल गये निजताई...
आई...शरद की पुरनम रात कन्हाई।
गोपिन वेश धरे शिवशंकर पहुंचे वंृदावन आलोक,
भूले कृष्ण वचन जटाधारी बन गये गोपिन रूप में एक।
सज, श्रृंगार किये त्रैलोकी, झूमे गोपिन संग त्रिनेत्र,
दरश किये प्रभु मुरलीधर की मिट गये सब के तृष्णा क्लेश।
धन्य हुई जगताई...
आई...शरद की पुरनम रात कन्हाई।।

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (19-10-2013) "शरदपूर्णिमा आ गयी" (चर्चा मंचःअंक-1403) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. शरदपूर्णिमा आ गयी, लेकर यह सन्देश।
    तन-मन, आँगन-गेह का, करो स्वच्छ परिवेश।

    सुन्दर चित्र।

    यही तो है कृष्ण का विलास उसकी लीलाओं का पर्सनल फॉर्म का विस्तार। सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वीरेन्द्र जी उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं