मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

सोमवार, 15 जून 2015

दरीचा


तेरा दरीचा
रोज खुलता था
अक्सर जब तुम
होती थी खाली
तुम आ जाती थी
झरोखे पे सुलझाने
अनसूलझे रेशमी बाल
और -
सॅवारने चाॅद सा मुखड़ा।

अब तुम नहीं हो तो
कितना खाली सा है
दरीचा और
उतना ही वीरान मेरा मन
हवा भी खूशबू नहीं देते
क्योंकि -
तुम्हारी खूशबू नहीं है
हवाओं के साथ।

मुझे पता है कि -
नहीं आओगी लौटकर,
अगर आई भी
तो संभव है
मेरा वही जगह होगा तुम्हारे जीवन में
जितना होता है
भुलने योग्य फजूल वक्त का।

परन्तु
तब भी प्रतिक्षा है
अंधे प्रेम की अंधी उम्मीद के कारण
कि शायद
तुम पुनः
उस दरीचे में
आइना लेकर खड़ी मिलोगी
जब सजना सॅवरना
एक बहाना होगा मात्र
मेरी झलक की प्रतिक्षा के लिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें