मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 9 जून 2015

कहे कबीर रघुनाथ सूं ,मतिर मंगावै मोहि

मांगत मांगत मानि घटै ,प्रीति घटै नित के घर जाई ,

औछे के संग में बुद्धि घटै ,क्रोध घटै  मन के समुझाई।

इस छंद में व्यवहार सम्बन्धी सीख दी गई है ,नीति भी समझाई  गई है। आत्मसाक्षात्कार रीयल आई से मिलने की प्रेरणा

भी दी गई है।

माँगन मरण समान है ,बिरला बंचै कोइ ,

कहे कबीर रघुनाथ सूं ,मतिर मंगावै मोहि।

To beg and to die are equal

From which rarely few can escape ;

Even from (bounteous )Raghunath

I mayn't have to beg ,Kabir says.

मरूँ पर मांगू नहीं ,अपने तन काज ,

परमारथ के कारने , मोहि  न आवै लाज।

               Of Philanthropy

For the sake of my own I may

Rather die than ask for alms

But for the well -being of others ,

Of my shame I have no qualms . 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें