मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 18 जून 2015

पेट और पेट के लिए


जब निवाले तक के लिए करना था मोहताज
तो हड्डियों के ढांचे में के आवरण में
सागर सा गहरा नितान्त अतृप्त
जो मजबूरियों से परे हो
अपनी आवश्यकताओं के लिए हलचल मचा देने वाला
निर्मम पेट क्यों दिया
यही तो हे जो दया दृष्टि रख
मनुष्य को खासकर गरीबों को
विवशता की आग में धकेल देता है
क्या नहीं होता उस निर्धन के पास
दो भुजा, दो पैर, दो नेत्र सब होता है
उनके पास भी दिमाग व दिल से उपजा विवेक होता है
तथा आजू बाजू के वातावरण में हो रहे
उथल पुथल का अनुभव भी
पर वे इसलिए ही न हीन समझे जाते हैं
कि वे दीन होते हैं
तथा अपने अथक श्रम से अल्प मूल्य पर
खून पसीना बहाते हैं
हमने नग्न आंखों से देखा है नाबालि बालकों को
पढ़ने व खेलने कूदने के क्षणों को
मजबूरन कारखानों में व्यतीत करते
होटलोें में बर्तन धोते और पोंछा लगाते भी
यहां तक कि रेलगाडि़यों में या स्टेशनों पर
मूंगफली भुजा बेचते या लाचार भीख मांगते भी
यूं तो इससे मनु का कोई भी तबका अछूता न रहा है
जब जो बालिकाएं हमारे समाज में हया इज्जत
और परदे के पार समझी जाती है
आज हम उन्हे शहरों मे सर पर
विवश टोकरी टोकरी लादे निरख सकते हैं
यह है हमारे विकसित हो रहे भारतवर्ष की
नारियों की परिस्थितियां
संसद में इनके सुधार के लिए
नियम तो सैंकड़ों बनाए जाते हैं
व अभिीयान भी बहुत चलाए जाते हैं
नेता लोग गला फाड़कर चैराहे पर चिल्लाते हैं
कि नारी विकास अति संवेदनशील मसला है
हम पूछते हैं …… मगर क्या अीाी तक सुलझा पाया है
बुजुर्गों की तो हालत ही मत पूछिए
यूं कहें उनकी दीन दशा देखकर पत्थर के भी आंसू
सूखने लगे तो अतिश्योक्ति न होगी
पके से उम्र में जब प्रत्येक अंग जवाब देने लगे
और ऐसे में पेट की भरपाई के लिए
दुर्भाग्य से जूझ रहे गरीब परिवार के साथ साथ
स्वयं भी मजूरी करना पड़ जाए
तो मन व बदन पर क्या बीतेगी
शायद भगवान भी प्रकट न कर पाएं
परन्तु करे भी तो क्या
जबरन यह दुखों का असहाय सा बेड़ा
सर लेना ही पड़ता है
और यह सब किसलिए
पेट और पेट के लिए ही तो
मेरा अन्तःकरण भी तड़प उठता है
हे ईश्वर जब निवाले तक के लिए करना था मोहताज
तो फिर ये बेरहम निर्मम पेट क्यों दिया
यह पेट जो न होता अगर तौ
इस तरह जानवरों की मानिंद
जीवन तो न जीना पड़ता ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें