मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 4 जून 2015

काला धन - जनता की नजर में












भाग-१
सेठ जी ने कारोबार जमाया                               
जाने कितनो को उल्लु बनाया

सम्बन्धो को खूब भुनाया
अफसरो को भी खिलाया

साम-दाम-दणं-भेद सब लगाया
कुल मिलाकर खूब माल कमाया

चलते चलते सेठ जी का बेटा बडा हो गया
सेठ जी की पकी फसल सा खडा हो गया

बेटा बोला पिताजी इक बात बताओ आज
अपनी इस कामयाबी का बताओ पूरा राज

सेठ जी बोले बेटे इक बात रखना याद
कोई आये सरकार नही होओगे बर्बाद

छोटी-छोटी बातो पर नही करना खेद
ईमान मे हो जायें चाहे जितने छेद

पैसे पैसे मे न करना कभी कोई भी भेद
पैसा पैसा होता है नही होता काला या सफेद
******
******

भाग-२

एक मजदूर पत्थर तोडता था
टूटी हुई सडको को जोडता था

जब गर्मी मे माथे पर आता पसीना
चमकता था धूप मे जैसे हो नगीना

मेहनत जो की दिहाडी मिलती थी
उसी से उसकी दाल रोटी चलती थी

एक बार उसकी घरवाली ने मन में ठानी
और पुराना टी॰वी॰ घर मंगवा के ही मानी

अब तो इतवार हो या सो्मवार
टी॰वी॰ पर चलता बस चित्रहार

मजदूर ने सोचा एक बार
पढना नही आता अखबार
तो क्यो न सुने समाचार

समाचार मे हो रही थी बहस काले धन की
उसे सुन मजदूर के बच्चे की खोपडी ठनकी

बच्चे ने कहा बापू, क्या होता है काला धन
बापू बोला पता तो नही, पर कहता मेरा मन
और कुछ नही ये है बस राजनीति का फैशन

इतना कह बापू ने पुनः चित्रहार लगाया
और अपने बेटे को यही समझाया

इन चक्करो में हो जायेगे इकलौते जुते मे भी छेद
इसलिये पैसे पैसे मे न करना कभी कोई भी भेद
पैसा पैसा होता है नही होता काला या सफेद


-जितेन्द्र तायल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें