मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 20 जून 2015

अकविता 'बदलता वक्त' (अमन 'चाँदपुरी')

'बदलता वक्त'
परिवर्तित होता जा रहा 
आज मौसम
जाड़ा, गर्मी और बरसात
हाय रे ! तीनों भयानक,
तीनों निर्मम
सह नहीं पाता मेरा बदन
एक के गुजरने पर दूसरा
बिन बताये शुरू कर देता अपनी चुभन
कैसा है ये परिवर्तन
क्यों होता है ये परिवर्तन
समय बदलता रहता है
काल का पहिया चलता रहता है
जमाने पर भी इसका असर है
बदला-बदला सा हर मंजर है
यहाँ नये रंग-रूप नित्य खिलते हैं
अजीबो-गरीब मुसाफिर
जीवन सफर में मिलते हैं
पहले छोटे बच्चे सा मैं दिखता था
हरेक को बहुत अच्छा लगता था
वही कवि कहकर
मुझे आज चिढा रहे हैं
अपने छोटे से उस मासूम बच्चे को
भूलते जा रहे हैं
सच
कितना असहाय हो गया मैं
कितना बूढा हो गया तुम्हारा अमन
जमाने से कितना पिछड गया हूँ
अकेलेपन के सपने से मैं डर गया हूँ
बदलते वक्त के अनुरूप
मैं भी ढल जाऊगाँ  
पुराने खोटे सिक्के की तरह
एक बार फिर चल जाऊगाँ। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें