मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 28 जून 2015

कुटिल हंसी देखिये गुलाम नबी आज़ाद की और सोनिया की आनुषांगिक मुस्कराहट भी

तुष्टिकरण के नाम पर विघटनवादी राजनीति की इंतिहा

अब इस देश में तीज त्योहारों की बात करना भी कांग्रेस साम्प्रादायिक होना बतला रही है।आप रक्षाबंधन पे यदि एक सामन्य बात  यह कह दें कि बहन बेटियों को तोहफे में दीजिये एक रुपैया बीमा योजना तो सोनिया के उकसाने पर गुलाम नबी आज़ाद फट कह देंगे प्रधानमन्त्री रमजान की मुबारकबाद तो देते नहीं हैं रक्षाबंधन की बात करते हैं। इतना बुरा हाल तो मोहम्मद अली जिन्ना के समय भी इस देश का नहीं था जब महात्मा गांधी सरे आम रामराज्य की बात करते थे। किसी ने उन्हें सांप्रदायिक नहीं कहा। ये कांगेस के शासन में ही होता है कबीर के दोहे -कांकर पाथर जोरि के मस्जिद लई  चिनॉय ....,तथा दिन  में रोज़ा रखत हैं रात हनत  हैं गाय 'को …  पाठ्यक्रम से निकाल दिया जाता है। रामधुन पर शताब्दी एक्सप्रेस में पाबंदी लगती है। तुष्टिकरण की राजनीति कमीनगी के इस स्तर तक पहुंचेगी सोनिया के रहते क्या वे अपनी सास के पिता की तरह हिन्दू मुस्लिम लाइन पर इस देश का एक और बंटवारा करवाना चाहतीं हैं ?आखिर क्या है उनकी मंशा जो गुलामनबी आज़ाद जैसे मुसलमानों को उकसा रहीं हैं रमजान को मुद्दा बनाके। क्या हो रहा है अफगानिस्तान और दुनिया भर की और मस्जिदों में गुलाम नबी आज़ाद नहीं जानते क्या ?कत्ले आम !या कुछ और। मस्जिदों को खूनी बनाके रख दिया है। और आप भारतीय तीज त्योहारों की बात पे नाक भौं सिकोड़ रहे हैं।हद है बेशर्मी  की। कुटिल हंसी देखिये गुलाम नबी आज़ाद की और सोनिया की आनुषांगिक मुस्कराहट भी।   

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें