मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 1 सितंबर 2015

ये तो बैंकों की मल्लिका है इसकी टोह तो दुनियाभर के बैंक भी न जाने


Shekhar Gemini ने Ramesh Mehta की चित्र साझा की.

Ramesh Mehta की फ़ोटो.

ये तो बैंकों की मल्लिका है इसकी टोह 


तो दुनियाभर के बैंक भी न  जाने 

ये तो साक्षात माया है राजनीति की (Political Maya  personified )बार टेंडर बनके जिसने बड़े बड़ों का  प भंग किया  हैं :

माया की गति माया ही जाने 

कबीर दास ने गाया है :

माया महा ठगिनी हम जानि  ,तिरगुन फांस लिए करि  डोले  बोले मधुरी  बाणी

केसव के कमला होए बैठी ,शिव के  भवन भवानी ,

पंडा के मूरत होए बैठी ,

तीरथ में भई पानी। 

जोगी के जोगिन होइ बैठी ,राजा के घर रानी ,

काहू के हीरा होए बैठी ,काहू के कौणी  काणी  ,

भगतन के भगतन होए बैठी, ब्रह्मा के ब्रह्माणी ,

कहत कबीर सुनो हो संतो ,यह सब अकथ कहानी ,

माया महा ठगिनो हम जानि। 


Maya, maha thagini hum jaani... - YouTube

www.youtube.com/watch?v=YJt2EdYufno

Feb 18, 2010 - Uploaded by nemobose71
Bhagatan key bhaktini hoyey baithi, Brammah key brammbhani, Kahat Kabir suno ho santo, Yeh sab ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें