मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 4 सितंबर 2015

तौबा तौबा तौबा तौबा ,आप -बाप की तौबा तौबा

डॉ. वागीश मेहता की लम्बी कविता दूसरी और अंतिम किश्त 


               
तौबा तौबा तौबा तौबा ,आप -बाप की तौबा तौबा 
                                               
                                             
                       (१)
              
              वह तूं तूं  था अब 'आप' बना ,

              संगी साथी का बाप बना ,

              कद बढ़ा चढ़ा जिन कन्धों पर ,

              उनके सिर का संताप बना । 

              कई दन्तुल खबरी आन मिले ,

              कई 'संजू' 'सिसोद ''कुमार " घने ,

यह गिरोह भयंकर रूप धरे ,

अब तो बस हरिहर लाज रखे।।  


                                (२ )

अब जंतर मंत्र मंच बना ,मिलकर रचा प्रपंच घना ,

एक बलि मानवी लेनी  थी ,धर नाम किसानी कहनी थी। 

दौसा सुत गजेन्द्र छबीला था ,सजधज पगड़ी गर्वीला था ,

अब इसे गिरोह ने फांस लिया ,रजनेता बनेगा झांसा दिया ।। 

बस लटक वृक्ष पर चढ़ना है ,मरने का नाटक करना है । 

वे उन झांसों से छले गए ,अब तो बस हरिहर लाज रखे ॥।

                                  (३) 

वह देहाती सीधा सादा था ,न भांप सका वह इरादा था । 

वह नाटक जिसको समझा था ,उसके जीवन का फंदा था ॥ 

नीचे से बजती ताली थी ,जो शोर शराबे वाली थी । 

कुछ सम्भले के पाँव फिसल गया ,और सचमुच में वह लटक गया ॥ 

भाषण के भौंपू बजते थे ,वे दांत निपोरे हँसते थे । 

पटकथा गुप्त थे कई चेहरे ,अब तो बस हरिहर लाज रखे ॥ 

                                  (४) 

पटना वालों से यारी है ,भीतर से धुक धुक जारी है । 

कहीं भेद नहीं खुल जाए कभी  ,बस यही चिंता ही सारी है ॥ 

हाय होगी कैसी मजबूरी ,फिर तिहाड़ कितनी दूरी । 

सब किया धरा रह जाएगा ,मुंह पर कोयला पुत जाएगा ॥ 

ये सोच सोच डर लगता है ,सब जगह गजिंदर दिखता है ॥ 

साथ में दिल्ली की 'खाकी ',एनजीओ नहीं कोई साथी । 

कब तक सच छिपाए रखें ,अब तो बस हरिहर लाज रखे ॥ 

                                (५)

अब किसकी शरण गहें कैसे ,ये सोनी मोनी मूढ़ मते । 

आओ मिलकर अरदास करें ,तब शरणम जय जगदीश हरे ॥ 

हे नीते ललुवे कुछ कर दो ,संजु ,सिसदे दन्तुल वर दो । 

हैं शिथिल प्राण ऊर्जा भर दो ,हे प्रभु अराजक को बल दो ॥ 

हे नमो तुम्हीं ऐसा कर दो ,खाली झोली मेरी भर दो । 

बस दिल्ली पुलिस हवाले कर दो ,फिर नए उत्पात का कौशल दो ॥  

ये 'भारती ' जय विजय करे ,अब तो बस हरिहर लाज रखे। 

तौबा तौबा तौबा तौबा ,आप -बाप की तौबा तौबा ॥  

विशेष : अराजक केजरीवाल की करतूतों  से प्रेरित है रचना ,इसमें सचमुच 

के पात्र भरे ,

चिह्नांकित  इनको तुम करना ,अपना इसमें अब क्या कहना। 

वीरेन्द्र शर्मा (वीरुभाई )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें