मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 22 सितंबर 2015

सूझबूझ वाली सरकार के हाथों में देश (भारतमाता )सर्वथा सुरक्षित है

ये आउल बाबा सूझबूझ वाले प्रधानमन्त्री को ही सूट बूट वाला समझते हैं। अम्मा (माता )इनकी नज़र में सिर्फ जैविक माता ही होती है इसलिए इन्हें जननी जन्म भूमिश्च  स्वर्गादपि गरीयसी का अर्थ नहीं पता है।(रामायण में यह श्लोक भगवान राम ने लक्षमण जी के सामने युद्ध में रावण को हराने के बाद बोला है (देखें वाल्मीकि रामायण )

"अपि स्वर्णमयी लङ्का न मे लक्ष्मण रोचते जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी"

पडोसी नेपाल देश का तो यह नेशनल मोटो ही है। जननी व्यक्ति को उसे जन्मदिन वाली अपनी जैविक माँ से भी ज्यादा प्यारी होती है।

 अपनी एक  चुनाव सभा  में ये कल कह रहे थे मुझे एक किसान ने बतलाया -किसान की दो माताएं होतीं हैं एक जो उसे जन्म देती है और दूसरी उसकी जमीन। इससे पहले इन्हें ये बात नहीं मालूम थी यहां तक तो ठीक ये समझते थे ये औरों को भी नहीं मालूम है इसलिए ये साझा कर रहे थे इस बात कोअपनी चुनाव सभा में ।

इस मंद मति को तो वन्देमातरम का मतलब भी नहीं मालूम। यकीन न हो तो कोई पत्रकार पूछ देखे। 

इस बालक को चाहिए अपनी जैविक माँ का ध्यान रखे भारत  माता सूझबूझ वाली सरकार के हाथों में देश (भारतमाता )सर्वथा सुरक्षित है।  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें