मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 12 सितंबर 2015

मोदी जी को कोसने वालों को क्या कहेंगे...? ------- ह्-ह्-ह-ह्-ह्-ह्-ह्-हरामज़ादे .......न न न गाली हो जाएगी इन्हें कहिए हवालाबाज़ हवाला- खोर हराम- खोर कहके मुंह का ज़ायका मत खराब कीजे आदम खोर कह लीजे।


मोदी जी को कोसने वालों को क्या कहेंगे...?
------- ह्-ह्-ह-ह्-ह्-ह्-ह्-हरामज़ादे .......न न न गाली हो जाएगी इन्हें कहिए हवालाबाज़ हवाला- खोर हराम- खोर कहके मुंह का ज़ायका मत खराब कीजे आदम खोर कह लीजे। 
  • 4 लोगों को यह पसंद है.
  • Virendra Sharma इन मा -बेटा हाईकमान के हाथ से लिखी हुई 

    परची उड़ जाए तो लेने के देने पड़ जाएं
    वो अपनी औकात क्यों नहीं समझते 

    वो माँ बेटा- पर्ची देखकर ही सही पढ़ तो लेते हैं भारत की जनता इतने से ही संतुष्ट हो जाती है। हाईकमान माँ- बेटे की औकात वह बाखूबी जानती समझती है। अफ़सोस ये है वे अपनी औकात खुद क्यों नहीं समझते।पर्ची से हटके जुमले बाज़ी पर क्यों उतर आते हैं।उनके लिए यही उचित है मोबाइल से देखकर पढ़ लिख लिया करें ,शोक सन्देश लिख दिया करें।इनके हाथ से लिखी हुई परची उड़ जाए तो लेने के देने पड़ जाएं। 

    मुहावरों की भाषा हईकोर्ट के कई वकील उन्हें सिखा देते हैं। माँ -बेटा वैसा ही बोल देते हैं।जब पिटाई होती है तो उनका सिर भन्ना जाता है। वकील साहब से जिन्हें भारत की जनता उकील साहब कहती है आकर पूछने लगते हैं अब क्या करें। 

    हाल ही में इन्होनें ने प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदर मोदी को हवाबाज़ कह दिया हवा बाज़ी करने वाला करार दिया। प्रत्युत्पन्न मति हाज़िर ज़वाब सब कुछ सोच समझकर बोलने वाले हमारे मोदी साहब कब चूकने वाले थे। उन्होंने कहा जब से हमने काला धन ढूंढने की गति बढ़ा दी है कुछ हवाले बाज़ और एक राष्ट्रीय हवाला पार्टी घबराने लगी है। 

    हमारा मनीष तिवारियों और अभिषेक मनु सिंघवी जैसे उकीलों से निवेदन है वे भी अपने हाईकमान की औकात समझें और उनकी भद्द न पिटवाएं हमें बहुत बुरा लगता है।


  • निंदक नियरे राखिये आँगन कुटि छवाय ,

    बिन पानी साबुन बिना निर्मल होत सुभाय। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें