मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 24 सितंबर 2013

जो मोदन है वियोग में वही मोहन बन जाता है। मादन तक तो स्वयं कृष्ण भी नहीं पहुँच सकते।

राधा तत्व क्या है ?(चलते चलते दूसरी क़िस्त )

जिनकी श्री कृष्ण आराधना करें ,जिनकी गोद में लेट कर श्री कृष्ण इतना सुख पायें ,अपने गोलोक को भूल जाएँ वह श्रीराधा हैं। 

कृष्ण की अनंत शक्तियों पर राज्य करने वाली एक लाजिमी शक्ति है। उससे भी ऊपर प्रेम की शक्ति है। प्रेम से भी ऊपर एक महा -अनुभाव शक्ति है। इसके भी दो विभाग हैं :

(१) रूढ़ 

(२) अधिरूढ़ 

अधिरूढ़ के भी आगे दो विभाग हैं :

(१) मादन 

(२) मोदन 

जो मोदन है वियोग में वही मोहन बन जाता है। 

मादन तक तो स्वयं कृष्ण भी नहीं पहुँच सकते। 

राधा का स्थान :

राधा कृष्ण की आराध्या हैं। कृष्ण कहते हैं :मैं राधा की आराधना करता हूँ। 

राधा आराध्य है या आराधिका ?कौन किसका आराध्य है ?सब शाश्त्र इसका समाधान करते हैं। वेद  कहता है भगवान् ने अपने को दो कर दिया है। दो हैं नहीं कृष्ण हैं एक ही लेकिन एक ही तत्व का एक भाग कृष्ण हैं दूसरा राधा। एक ही आत्मा है वह दोनों शरीर में है। 

राधिको -पनिषद क्या कहती है ?

एक ही आत्मा है वह दो बन गई है। प्रलय के बाद कृष्ण अकेले रह गए इसलिए उन्होंने अपने को ही दो बना दिया। अब अपने को कोई हज़ार बना दे किसी चीज़ के हजार टुकड़े कर देवे। फिर कृष्ण तो सर्वशक्तिमान हैं वह ऐसा कर सकते हैं। लीला करने के लिए कृष्ण ही राधा बन गए हैं। 

विस्तारित व्याख्या के लिए कृपया ये रोचक लिंक देखें :

http://www.youtube.com/watch?v=pgBqP--PezY

सार :जैसे एक मैं हूँ और एक मेरा शरीर है। ये जो मैं हूँ यह आत्मा है और जो शरीर है वह दासी है आत्मा की। ऐसे ही सभी आत्माओं की फिर एक आत्मा है वह श्री कृष्ण हैं और जो श्रीकृष्ण की आत्मा है वह राधा है।

http://www.youtube.com/watch?v=yWhMNNTWcuM

http://www.youtube.com/watch?v=jBHYgSFPMmc



1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (24-09-2013) मंगलवारीय चर्चा--1378--एक सही एक करोड़ गलत पर भारी होता है|
    में "मयंक का कोना"
    पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं