मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 10 सितंबर 2013

अपनी बात

दोस्तो की भीड़ मे भी एक दोस्त की तलाश है मुझे
अपनो की भीड़ मे भी एक अपने की प्यास है मुझे, 
छोड आता है हर कोइ समन्दर के बीच मुझे, 
लडना और जीतना चाहता हूँ इन अन्धेरो के गमो से, 
अब तो बस एक शमा के उजाले की तलाश है मुझे, 
अपनी हर ज़िन्दगी में तंग आ चुका हूँ इस बेवक्त की मौत से मै, 
अब अपनी इस ज़िन्दगी में एक हसीन ज़िन्द्गी की तलाश है मुझे, 
क्या पागल और दीवाना हूँ मै, सब यही कह कर सताते है मुझे, 
सादर स्नेह सहित, 
आपका स्नेहाकांक्षी दोस्त 
--ललित चाहार--

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. --सुन्दर ग़ज़ल है ..बधाई ....कुछ समीक्षा है.....

    -----अपनी हर ज़िन्दगी में तंग आ चुका हूँ इस बेवक्त की मौत से मै, ---- क्या अब तक की सारी जिंदगियां याद हैं .....भई ?

    --अन्धेरो के गमो से = गम के अंधेरों से ..

    ---क्या पागल और दीवाना हूँ मै, सब यही कह कर सताते है मुझे, ---अंत में 'मुझे' अनावश्यक है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढिया प्रस्तुति ....बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढिया प्रस्तुति ....बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं