मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 20 सितंबर 2013

Spiritual dailectics Part IV

Question .If all outcomes happen due to one's karma ,and God gives the results ,when ill befalls people ,like the terrorist attack in Mumbai ,will it be correct to say ,"They deserved it due to past karmas ,"and blindfold ourselves from the misery of humankind? 

Answer.The law of karma is so complex that it involves multiple factors Let me explain step by step this question ,by first describing the three kinds of karmas :

(1)sanchit (संचित कर्म )

(२)prarabdh(प्रारब्ध कर्म )

(३ )kriyaman (क्रियमाण कर्म )

हमारे  अनेकानेक जन्मों का बहीखाता परमात्मा के पास रहता है। इन्हें संचित कर्म कहा जाता है।जन्म के समय हम संचित कर्मों का कुछ हिस्सा भी अपने साथ लिए इस संसार प्रवेश करते हैं। सुख दुःख दोनों से संपृक्त रहता है यह अंश। यही प्रारब्ध कर्म कहलाता है। जो हमारे पूर्व जन्म के कर्मों का फल है ,अच्छा या बुरा जो हम को  भोगना  ही है। लेकिन अलावा इसके अपने वर्तमान जन्म में हम कोई भी  कार्य करने के लिए स्वतंत्र हैं।इस जन्म के कर्म ही क्रियमाण कर्म हैं। ये पूर्व निर्धारित नहीं हैं। हमारे पुरुषार्थ पर निर्भर करते हैं। हम इनमें रद्दो बदल जब  चाहें कर सकते हैं। कर्मों का फल जो हमें इसी   जीवन में  मिलता है  भुगतना पड़ता है वह एकाधिक बातों पर निर्भर करता है :

(१)हमारे प्रारब्ध कर्म 

(२) क्रियमाण  कर्म 

(३)  ईश्वरेच्छा 

(४)  अन्य लोगों के कर्म भी उस   हालात में जो उस समय वहां उपस्थित 

होते 

हैं हमें असर ग्रस्त करते हैं। 

(५ )Chance events in which we happen to be present by accident 

यानी मौक़ा बे -मौक़ा   हमारा यूं  ही कहीं पहुँच जाना बिना मंशा के। 

हर फल की भोगना का कारण  हम अपनी अल्प बुद्धि से जान भी नहीं 

सकते हैं। फिर हमें  अपने पूर्व किये  गए सभी कर्मों का इल्म भी कहाँ 

रहता है जो हम वर्तमान की भोगना के साथ संगती बिठा सकें।

मुंबई आतंकी हमले में जो लोग मारे गए थे वह उनके कर्मों की भोगना का 

ही फल था ऐसा दो टूक  नहीं कहा जा सकता।  हो सकता है उनका आखिरी 

वक्त आ गया हो और अचानक उसी समय आतंकी हमला भी वहां हो 

गया।  

हो सकता है नतीजा इस भोगना का उल्लेखित में से कोई कारण रहा हो। 

मनुष्य के लिए यह  जानना मुमकिन नहीं है कब कौन से कर्म  फल की 

 भोगना उसके हिस्से में आती है। 

इसी हमले में बहुत से लोग  आकस्मिक तौर पर बच भी गए थे। कुछ 

लोगों को वहां इन्हीं होटलों में किसी बैठक में आना तो था लेकिन 

अजीबोगरीब कारण  से 

वह वहां पहुँच ही नहीं सके थे। और कुछ अन्य लोग यहाँ आकस्मिक तौर 

पर ही  पहुंचे थे पूर्वनिर्धारित नहीं था उनका आना।  प्रकृति के अनेक रहस्य 

हमारे लिए अबूझ ही बने रहते हैं जब हम भगवान् को प्राप्त होते हैं तभी 

इनका भेद खुलता है।ईश्वर पर ही छोड़ दिया जाए इस सवाल का  सटीक 

ज़वाब  हमने तो  मात्र एक संगति बिठाई है।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है हम इस सामाजिक बुराई से पल्ला   झाड़ 

लें हमें अपने स्तर पर भी इससे आइन्दा बचे रहने के उपाय करते रहना है। 

नागर सतर्कता अपना रोल प्ले करती है। इसीलिए संतों ने कहा है :

प्रयत्न में सावधान फल में  संतुष्ट। 

ॐ शान्ति। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें