मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 5 सितंबर 2013

नाम काम तरु काल कराला ,सुमिरत समन सकल जग जाला , राम नाम कलि अभिमत दाता ,हित परलोक ,लोक पितु माता।

चहुँ जग तीन काल तिहुँ लोका ,भये नाम जपि जीव बिसोका ,

बेद पुरान संत मत एहू ,सकल सुकृत फल राम सनेहू। 



केवल कलियुग की ही बात नहीं है ,चारों युगों में ,तीनों कालों में और तीनों लोकों में नाम को जपकर जीव शोकरहित (अशोक )हुए हैं।

वेद ,पुराण और संतों का मत यही है कि समस्त पुण्यों का फल श्री राम जी में या राम नाम में प्रेम होना है।


ध्यानु प्रथम जुग मख बिधि दूजें ,द्वापर परितोषत प्रभु पूजें ,

कलि केवल मल मूल मलीना ,पाप पयोनिधि जन मन मीना। 


कल्प के पहले युग (सतयुग )में ध्यान से दूसरे (त्रेता युग )में यज्ञ से। तीसरे दो पर (द्वापर )में पूजा पाठ से भगवान् प्रसन्न होतें हैं।

लेकिन कल युग केवल पाप की जड़ और मलिन है ,इसमें मनुष्य का मन पाप रूपा समुद्र में मछली बना हुआ है ,पाप से अलग ही

नहीं होना चाहता ,नेता मगरमच्छ बने हुए हैं इसलिए ध्यान यज्ञ और पूजन सब निष्फल होते हैं।


नाम काम तरु काल कराला ,सुमिरत समन सकल जग जाला ,

राम नाम कलि अभिमत दाता ,हित परलोक ,लोक पितु माता। 



इस घोर कलियुग में रौरव नर्क में भी नाम की महिमा  कल्प  वृक्ष के समान है ,जो मन में उपजी न सिर्फ हर कामना की पूर्ती कर

सकता है सांसारिक पदार्थों में उलझे मनुष्य के हर दुःख का जो जी के जंजाल बने हुए हैं ,समूल नाश भी कर सकता है। कलियुग में यह

प्राणि की हर कामना पूरी करने वाला है मन चाहा फल देने वाला है परलोक में हमारा कल्याण करने वाला है परम हितेषी है पर लोक

का और इहि लोक में भी माता पिता की तरह रक्षक और पालक बन खड़ा हो जाता है।

नहिं कलि करम न भगति बिबेकू ,राम नाम अवलम्बन एकू ,

कालनेमि कलि कपट निधानु ,नाम सुमति समर्थ हनुमानू। 

इस कलियुग में न कर्म है ,न भक्ति है (जो  भक्ति  है भी वह व्यभिचारिणी हो चुकी है )और न ही ज्ञान है। कहते हैं पहले मन्त्र आया

,फिर तंत्र और अब सिर्फ षड्यंत्र ही रह गया है। ऐसे कपटपूर्ण माहौल  में राम नाम ही एक आधार है।  इस कपट की खान कलियुग रुपी

कालनेमि के मारने के लिए राम नाम ही बुद्धिमान और समर्थ हनुमान के समान है। 

जिसका "स्व "मान ऊंचा है वही हनू -मान है।नाम का जाप हमने हनू मान बनाता है।  

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    गुरूजनों को नमन करते हुए..शिक्षक दिवस की शुभकामनाएँ।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (06-09-2013) के सुबह सुबह तुम जागती हो: चर्चा मंच 1361 ....शुक्रवारीय अंक.... में मयंक का कोना पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं