मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 26 अप्रैल 2014

नशे से शांति नही—पथिकअनजाना—592 वीं पोस्ट



विषाक्त रसों के भोग प्रयोग व संयोग में शांति की खोज करते हम
जानते हैं रसायन विषैले पर न मिले तो शोक अनचाहे मिले संयोग
वैद्य प्रारब्ध ज्योति इंसा को राह दिखाती पर समझ तो आती नही
नशा इसका ऐसा चढा इंसान पर कि मंजिल व राह याद आती नही
चमकती बिजलियाँ चेतावनियाँ देती  बादल पुकार कहते दलदल हैं
विचारों विकारों से खाली करने के प्रयास में इंसा राह गलत चलता
पर गहरी सांसें छोड उर्जा प्रकृति मय शांति भरना समझ आता नही
क्यों चुनें विष को जबकि जग में अमृतप्याले भी मौजूद हुआ करते
दोंनों का अंतर जानकर इंसा विष को अमृतमान कर क्यों संजोते हैं
नशे से शांति नही मिल सकती पूरा इंसान जन्म क्यों तुम खोते हो
रहो दुनिया में पर बन अनजान तभी पथिक अनजाना तुम होते हो
राह गर यह चल जिन्दगी सुगम तुम्हारी वआनन्द मयी हो जावेगी
जितना जोडोगे खुद को जग से मायूसी अशांति तुम पर छा जावेगी
पथिक अनजाना



1 टिप्पणी: