मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

बुधवार, 30 अप्रैल 2014

क्या बुरा सौदा हैं ?-पथिकअनजाना—594 वीं पोस्ट



जब किसी के दिल पर किसी की बात या उपेक्षा चोट करती हैं
प्रतिफल में लौटावे गर मुस्कराहटें हार कर भी जीत होती हैं
चोटकर्ता हास्यपात्र खुद बनता व जग में असम्मानित होता हैं
लक्ष्य व्दारा फैंकी गई मुस्कान व जनसाधारण से प्रीत पाता हैं
बदले की भावना तुम्हें दुष्कर्मों  व अशांति की राह चलाती हैं
नही जीत सकते तुम यह तुम्हारी हताशा जगजाहिर कराती हैं
मान लो अपनी कमजोरी  तो सुकर्मी भीड काँधे पर बिठाती हैं
यही  प्रतिपक्ष को अशांति मिलती तुम्हें शांतिलोक ले जाती हैं
माना चुप रहना सहना कायरता पर यहाँ इंसा क्षणिक हारता है
एक क्रोधित रहे पर मिले अनेक सहयोगी गर क्या बुरा सौदा हैं
पथिक अनजाना


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें