मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

रविवार, 6 अप्रैल 2014

जब मध्य में रहते हो—पथिक अनजाना---574 वीं पोस्ट



जब मध्य में रहते हो—पथिक अनजाना---574 वीं पोस्ट
http://pathic64.blogspot.com
अजीब महसूस न होगा तुम्हें गर तत्पर
तुम सबसे नीचे ऊचे स्तर के लिये रहो
वर्ना जिन्दगी में लोग धक्का तभी देते हैं
जब मध्य में रहते हो तुम सदा के लिये
जो जीवित हैं वह नीचे रह नही सकता
जो मध्य में वह कुछ कह नही सकता
जो ऊपर वह कुछ भी सुन नही सकता
अजब हालात प्रकृति के होते मेरे यारों
अनूठे इस सिद्धान्त से इंसान हैं परेशान
चाहत पर कहाँ रखे अपनी वह पहचान
मिले ,मुझे बता देना आसां होगा सफर

पथिक अनजाना

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (07-03-2014) को "बेफ़िक्र हो, ज़िन्दगी उसके - नाम कर दी" (चर्चा मंच-1575) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिडिल आर्डर बैट्समैन पर सारी जिम्मेदारी है...

    उत्तर देंहटाएं