मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 1 अगस्त 2013

हार जीत

पाने को आतुर रहतें हैं  खोने को तैयार नहीं है
जिम्मेदारी ने
मुहँ मोड़ा ,सुबिधाओं की जीत हो रही.

साझा करने को ना मिलता , अपने गम में ग़मगीन हैं
स्वार्थ दिखा जिसमें भी यारों उससे केवल प्रीत हो रही .

कहने का मतलब होता था ,अब ये बात पुरानी  है
जैसा देखा बैसी बातें  .जग की अब ये रीत हो रही ...

अब खेलों  में है  राजनीति और राजनीति ब्यापार हुई
मुश्किल अब है मालूम होना ,किस से किसकी मीत हो रही

क्यों अनजानापन लगता है अब, खुद के आज बसेरे में
संग साथ की हार हुई और  तन्हाई की जीत हो रही
 प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

7 टिप्‍पणियां:

  1. अक्सर तन्हाई जीत जाती है
    बहुत खूब, सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनेकानेक धन्यवाद सकारात्मक टिप्पणी हेतु.

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज शुक्रवार (02-08-2013) को सुना लतीफा पाक ने, कैप्टन सौरभ क़त्ल : चर्चा मंच 1325 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वार्थ और प्रीत ,दोनों ही दीखते है परन्तु प्यार की अलग भाषा है
    बहुत सुन्दर
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहने का मतलब होता था ,अब ये बात पुरानी है
    जैसा देखा बैसी बातें .जग की अब ये रीत हो रही ...

    ---क्या खूब कहा है....अति सुन्दर .....

    ----पेश है ...

    कुछ भी कहदो सब चलता है अब तो बस यह रीति होरही
    धन से धन की छल से छल की यारो मैत्री खूब हो रही |

    उत्तर देंहटाएं