मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 6 अगस्त 2013

अपना प्यारा गावं

महंगाई की देख दशा मन हुआ बहुत परेशान | 
अपने प्रियवर से मै बोली सुनिए तो श्रीमान | 

छोड़ चमक दिल्ली की आओ लौटे अपने गॉव | 
यहाँ धूप कंक्रीटो की वहां ठंडी नीम की छावं |  


मिटटी का वहां चूल्हा होगा और हांड़ी की भाजी | 
थैली  वाला दूध नहीं फल सब्जी होगी ताज़ी | 

गोमाता पालेंगे होगा दूध दही भरपूर | 
सदा जीवन होगा होंगे आडम्बर से दूर । 

अपने छोटे से आगन में फल सब्जिया उगायेंगे । 
लेकर सांस स्वच्छ वायु में रोग मुक्त हो जायेंगे | 

मक्के की रोटी के संग सरसों का साग बनायेगे । 
बैठ चबारे  बड़े प्रेम से मिलजुल कर हम खायेंगे । 

पॉप सोंग का शोर नहीं वहां लोकगीत की धुन होगी । 
कर्कश ड्रम की बीट  नहीं वह पायल की रुनझुन होगी । 

रम्भा-समभा छोड़ वह पर भांडे गिद्दे पाएंगे । 
अपनों के संग झूमेंगे नाचेंगे ख़ुशी मनाएंगे । 

अपनी उन यादो से अब में दूर नहीं रह पाऊँगी । 
मैं तो वापस जाउंगी बस मैं तो वापस जाउंगी । 

पतिवर बोले प्रिय तुम्हारा सुन्दर है यह सपना । 
पर वो मंजर छूट चुका है जो था तुम्हारा अपना ॥ 

चमक दमक माना  शहरों की सबको बहुत लुभाती है ।    
पर बूड़े बरगद की हमको याद बहुत ही आती है । 

मेरे प्यारे सखा बन्धुओ इतनी अरज हमारी है । 
उस धरती को मत त्यागो वो धरती सबसे प्यारी है । 

1 टिप्पणी: