मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शनिवार, 3 अगस्त 2013

श्याम स्मृति-१६ –परम्परा व साहित्य जगत..........डा श्याम गुप्त......



श्याम स्मृति-६   परम्परा ..
          परम्पराएं सीडियां हैं  प्रगति की, सदा पालन योग्य, अनुभव ज्ञान के भण्डार ... परन्तु सीडियां चढने हेतु होती हैं, आगे बढ़ने हेतु | ज्ञान कोई स्थिर जलतल नहीं अपितु गतिशील समय है मानवता का प्रगति-पथ है, पथ दीप है जो आगे चलना सिखाता है नवीन राहें दिखाता है | परंपरा के नाम पर रूढ़िवादिता, जड़ता, अप्रगतिशीलता मानवता के प्रति अक्ष्म्य अपराध है |  
           आजकल... सदा से ही समाज के  सर्वोच्च स्तर पर स्थित साहित्य जगत में भी यह परम्परा के नाम पर रूढ़िवादिता के दर्शन हो रहे हैंवेद ही अंतिम सत्य है.... सिर्फ सनातनी छंदों में ही कविता करें.... छंद मुक्त कविता ने कविता की अत्यंत हानि की है ...  आदि कथन प्राय: सुनने को मिलते हैं | परन्तु हम भूल जाते हैं कि  वेद स्वयं नेति-नेति कहते हैं...अर्थात नै इति ..यह अंत नहीं है ..... आसमां और भी हैं.....|

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (04-08-2013) के दादू सब ही गुरु किए, पसु पंखी बनराइ : चर्चा मंच 1327
    में मयंक का कोना
    पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं