मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

शुक्रवार, 23 अगस्त 2013

राम से बड़ा राम का नाम


राम से बड़ा राम का नाम |

राम से बड़ा राम का नाम |
अंत में निकला ये परिणाम |
राम से बड़ा राम का नाम |



नाम तेरा लेने वाले   है दूध मलाई खाते |
राम राम कह अरब खरब का माल हजम कर जाते |
सेवक उनकी सेवा करते रहते सुबहो शाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
अंत में निकला ये परिणाम |
राम से बड़ा राम का नाम |

धर्म की खातिर राम आपने वन वन धक्के खाए
बना आश्रम सेवक तेरे मोटा माल उड़ायें |
दुनिया के सब धंधे छोडो सभी करो ये काम |
राम से बड़ा राम का नाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
अंत में निकला ये परिणाम |
राम से बड़ा राम का नाम |

तुम को अपनी पत्नी का भी सहना पड़ा बिछोड़ा |
पर इन चेले चांटो ने परिस्त्री को  भी न छोड़ा |
मर्यादा की सीमाए लांघी है इन्होने तमाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
अंत में निकला ये परिणाम |
राम से बड़ा राम का नाम |

नाम तेरा ले कर बनती, गिर जाती है सरकारे |
बिन मतलब के मेरे राम जी कोई न तुझे पुकारे |
कितनी हद  तक और गिरेगा ये तेरा इंसान |
राम से बड़ा राम का नाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
अंत में निकला ये परिणाम |
राम से बड़ा राम का नाम |

बहुत हुआ अब मेरे राम जी धरती पर आ जाओ |
देश रसातल को है जाता आकर इसे बचाओ |
डूब रही भारत की नाव, पतवार लियो अब थाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
राम से बड़ा राम का नाम |
अंत में निकला ये परिणाम |
राम से बड़ा राम का नाम |

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और सटीक रचना ..बिना मतलब कोई राम नाम नहीं रटता
    latest post आभार !
    latest post देश किधर जा रहा है ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शनिवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब राम नाम को तो खुद भगवान राम ही बचा सकते हैं
    सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. सबका जीना कर दो हराम करते हुए,गांधीवाद का बखान !

    उत्तर देंहटाएं