मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

गुरुवार, 8 अगस्त 2013

"ईद मुबारक" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

वतन में अमन की जागर जगाने की जरूरत है
जहाँ में प्यार का सागर बहाने की जरूरत है
मिलन मुहताज कब है ईद-होली और क्रिसमस का
दिलों में प्रीत की गागर सजाने की जरूरत है

8 टिप्‍पणियां:

  1. ईद पर जागर जगाने की सचमुच जरूरत है । आपके साथ सभी ब्लॉगर जनों को ईद मुबारक ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह उत्कृष्ट रचना दिनांक 09.08.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ईद मुबारक



    http://premkephool.blogspot.in/2013/08/blog-post_8.html#links

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 10/08/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर है शाष्त्री जी !आ मिल गले तू भी 'सेकुलर' ,तू मिले तो मेरी भी ईद हो।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहीं पर ईद की खुशिया कहीं पर तीज का मेला |
    नहीं मजहब की लड़ाई नहीं है कोई और झमेला |
    मुबारक हिन्दू देता ईद की भाई मुसल्मा को |
    मुसल्मा देखता हिन्दू के संग है तीज का मेला|
    यही संस्कृति है भारत की मनाते त्यौहार मिल जुल कर
    नहीं हिन्दू यहाँ तनहा नहीं मुस्लिम है अकेला

    उत्तर देंहटाएं