मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 27 अगस्त 2013

करुण पुकार |

आना आना रे गिरधारी तुझ बिन सूना ये संसार |

              सूना ये संसार हम सब तुझ को रहे पुकार |                               


 चीर हरण करके तुमने सखियों को सबक सिखाया |
चीर किये कम आज सखी ने अपना मान घटाया |
चीर बिना न वसन सुहावे कह दो कृष्ण मुरार |
आना आना रे गिरधारी तुझ बिन सूना ये संसार |




गौवें तेरी कोई न पाले आकर उन्हें संभाल|


दूध यूरिया वाला छूटे असली मिले गोपाल |
घर घर में कर दो फिर तुम माखन मिश्री का प्रचार |
आना आना रे गिरधारी तुझ बिन सूना ये संसार |



नाग कालिया का फन कुचलो संसद में जो बैठा |
लेकर वोट हमारे देखो हम पर ही है ऐंठा|
संसद की यमुना से निकालो फेंको पर्वत पार |
आना आना रे गिरधारी तुझ बिन सूना ये संसार |


बनी दामिनी लुटे द्रौपदी कोई न चीर बढाये |
अँधा राजा मौन मंत्री कोई सुने न हाय !
बहन द्रौपदी की तुम सुन लो फिर से करुण पुकार |
आना आना रे गिरधारी तुझ बिन सूना ये संसार |


बड़ी दुष्टता महाभारत का फिर से बिगुल बजाओ |
अर्जुन को फिर से तुम गीता का उपदेश सुनाओ |
हारे फिर अधर्म धर्म की हो जाए जय जय कार |
आना आना रे गिरधारी तुझ बिन सूना ये संसार | 
सूना ये संसार हम सब तुझ को रहे पुकार |

5 टिप्‍पणियां: